ह्रस्व स्वर - Hrasva Swar: हिन्दी व्याकरण

Hrasva Swar

ह्रस्व स्वर

जिन स्वरों के उच्चारण में कम-से-कम समय लगता हैं उन्हें ह्रस्व स्वर कहते हैं।

ह्रस्व स्वर की संख्या

  • ह्रस्व स्वर पांच हैं- अ, इ, उ, ऋ, लृ 
  • इन्हें मूल स्वर भी कहते हैं।
ह्रस्व स्वर: जिन स्वरों के उच्चारण में कम-से-कम समय लगता हैं उन्हें ह्रस्व स्वर कहते हैं। यह चार हैं- अ, इ, उ, ऋ। इन्हें मूल स्वर भी कहते हैं। दीर्घ स्वर– जिन स्वरों के उच्चारण में ह्रस्व स्वरों से दुगुना समय लगता है उन्हें दीर्घ स्वर कहते हैं।

Post a Comment

0 Comments